फैशन

Block Print Art: आम प्रिंट्स से कैसे अलग होती है ‘अजरक ब्लॉक प्रिंटिंग’, जानें रोचक तथ्‍य

अजरक हैंडमेड ब्लॉक प्रिंटिंग फैब्रिक के बारे में आपको नहीं पता होंगी ये रोचक बातें। चलिए इस पारंपरिक कलात्‍मक फैब्रिक के बारे में जानते हैं सब कुछ। 

interesting facts about ajrak block printing fashion

भारत एक ऐसा देश हैं, जहां पग-पग पर लोगों की भाषा, खाना और पहनावा बदल जाते हैं। मगर यही तीनों चीजें किसी स्थान की विशेषता भी बताती हैं। हमने अपने लेखों के माध्यम से आपको ऐसी कई कलाओं और फैब्रिक के बारे में बताया है, जिनकी कहानी बेमिसाल है। कई कलाएं और फैब्रिक वर्तमान में विलुप्ति की कगार पर हैं, तो कई ने आधुनिकता की रंग को ओढ़ रखा है।

आज हम आपको इस लेख में अजरक ब्लॉक प्रिंटिंग वाले फैब्रिक के बारे में बताएंगे। यह अचानक से चर्चा में आ गया है, क्योंकि कुछ ही दिन पहले बॉलीवुड एक्ट्रेस आलिया भट्ट ने फेमस फैशन डिजाइनर अबू जानी संदीप खोसला द्वारा डिजाइन की हुई अजरख साड़ी कैरी की थी।

Subhash Chandra Bose Jayanti 2024 Wishes & Quotes in Hindi: नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती पर बधाई के लिए भेजें ये संदेश

साधारण से दिखने वाली इस ब्लॉक प्रिंटिंग कला की कहानी बहुत ही रोचक है। बाजार में आपको हैंड मेड अजरख प्रिंट वाले फैब्रिक बहुत ही कॉस्टली मिलेंगे। तो चलिए आज इस लेख के माध्‍यम से जानते हैं कि आखिर ऐसा क्या है इस ब्लॉक प्रिंटेड फैब्रिक में खास।

 

history of block printing

 

यह कला आज की नहीं है बल्कि इसे अस्तित्व में आए 400 वर्ष से भी ज्यादा हो गए हैं। यह सिंध से गुजरात के कच्छ में वहां के राजा के द्वारा लाई गई थी। राज ने खत्री कम्यूनिटि के कारीगरों को न्योता दिया था कि वे कच्छ में आए और धमादका नदी के किनारों पर बस जाए और अपनी इस खूबसूरत कला का विस्तार करें। आज भी आपको इस प्रांत में बहुत सारे ऐसे परिवार मिल जाएंगे, जिनका आज भी पुश्तैनी काम कपड़ों पर अजरक ब्लॉक प्रिंटिंग (इस तरह करें ब्लॉक प्रिंटिंग) करना ही है। आधुनिकता के इस युग में आज भी यह लोग पारंपरिक अंदाज में ब्लॉक प्रिंटिंग करते हैं।

अजरक ब्लॉक प्रिंटिंग के लिए कपड़े को 16 स्‍टेप्‍स से गुजरना पड़ता है, जिसमें उसे धोने से लेकर डाई करने, प्रिंटिंग करने और सुखाने तक की प्रक्रियाएं शामिल होती है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि यह 16 स्‍टेप्‍स एक दिन में पूरे नहीं होते हैं, बल्कि एक दिन में एक स्टेप को पूरा किया जाता है।

How To Look Slim: स्लिम लुक पाने के लिए बेस्ट हैं साड़ी के ये बेहतरीन डिजाइंस, मिलेगा स्टाइलिश लुक

अजरक ब्लॉक प्रिंटिंग के लिए जिन रंगों को इस्तेमाल होता है उन्हें जड़ी बूटियों, फूल, फल और सब्जियों से निकाला जाता है। इतना ही नहीं, फलों के रस से डाई तैयार की जाती है और ऊंठ के गोबर से कपड़े का स्टार्च रिमूव किया जाता है। कपड़ों को रंगने के लिए रसोई में इस्तेमाल किए जाने वाले महंगे मसालों को भी प्रयोग किया जाता है। इसमें हल्‍दी, इमली, गुड और कुछ गरम मसाले आदि भी आते हैं। साथ ही, कारीगरों को जंग लगे लोहे से भी रंग निकालना पड़ता है और 2-2 हफ्तों तक कपड़ों को डाई में भिगो कर रखना पड़ता है, तब जाकर कहीं कपड़ों पर रंग चढ़ता है।

अजरक ब्लॉक प्रिंटिंग में हर चीज प्राकृतिक है। इसलिए ऐसा कहा जाता है कि इस फैब्रिक को आप गर्मी और सर्दी दोनों ही मौसम में पहन सकती हैं। दरअसल, गमिर्या ममें फैब्रिक के पोर्स ओपन हो जाते हैं और कपड़े के अंदर से शरीर में ज्यादा हवा जाती है। वहीं दूसरी तरफ सर्दियों के मौसम में फैब्रिक को पोर्स बंद हो जाते हैं और उसमें इसे पहनने पर कम सर्दी लगती है। इसलिए आप अजरक ब्लॉक प्रिंटिंग वाले कपड़े को हर मौसम में पहन सकती हैं।

Editor

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़ें

Back to top button
E7Live TV

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker