मध्य प्रदेश

Sidhi news : रेत खदानों पर मेहरबान अधिकारी, कार्यवाही करने से करते हैं परहेज

नये मुख्यमंत्री बनने के बाद अब खदानों पर शिकंजा कसने की दिख रही उम्मीदें

रेत खदानों पर मेहरबान अधिकारी, कार्यवाही करने से करते हैं परहेज

– नये मुख्यमंत्री बनने के बाद अब खदानों पर शिकंजा कसने की दिख रही उम्मीदें

सीधी।

रेत खदान जिले में संचालित हैं, यहां संविदाकारों द्वारा मनमानी रूप से रेत का संचालन किया जा रहा है इसके बाद भी जिम्मेदार अधिकारी कार्यवाही करने से परहेज करते हैं। ऐसे में कही न कहीं अब नई सरकार, नये मुख्यमंत्री से ऐसे खदानों पर कार्यवाही की उम्मीद मानी जा रही है। रेत खदान जिले में ठेका लेने वाले संविदाकारों द्वारा खुली लूट की जा रही है। इस पर कोई अंकुश लगाने वाले नेता या अधिकारी नहीं दिख रहे हैं। यही वजह है कि उनके द्वारा मनमानी रेट का विक्रय कराया जा रहा है। जब तक प्रशासनिक अमले सजग नहीं होंगे तब तक रेत के नाम पर खुली लूट का काम जारी रहेगा।

मालुम हो कि जिले के रेत खदानों में प्रशासनिक अमले की हस्ताक्षेप रहती है लेकिन इस बार जिले के खनिज अधिकारी से लेकर अन्य अमले कोई पहल नहीं कर रहे हैं। यही वजह है कि अब रेत के मामले में जिले के ठेकेदार मनमानी ढंग से रेत का विक्रय कर रहे हैं। महंगे दर पर रेत के विक्रय होने की काफी शिकायतें भी सुनने को मिल रही है इसके बाद भी कार्यवाही न होना कही न कहीं समझ से परे मानी जा सकती है। रेत का ठेका लेने वाले की हिम्मत इतनी रहती है कि वह जो भी करे उन पर कोई आंच नहीं आने वाली है। यही वजह है कि उनके आगे प्रशासन भी नतमस्तक होने को मजबूर हो रहा है।

प्रशासन भी रेत ठेकेदार पर हो रहा नतमस्तक

कही न कहीं प्रशासन रेत खदान ठेकेदारों के सामने नतमस्तक होने को मजबूर हो रहा है। खनिज अधिकारी एके राय ने खुद बता चुके हैं कि रेत नियंत्रण में हमारा कोई हस्ताक्षेप नहीं रहता है। यह पूरा जिम्मा मेरे क्षेत्र से बाहर है। जब एक खनिज अधिकारी यह बयान दे रहे हैं तो जाहिर है कि रेत माफियाओं का हौसला बुलंद होगा। इसके साथ ही प्रशासन के अन्य जिम्मेदार अधिकारी भी मामले में कार्यवाही करने से परहेज करते हैं।

कलेक्टर से है कार्यवाही की उम्मीदें

पूरी जिले के लोग यह मान रहे हैं कि जिस तरह रेत महंगे दर पर बिक रही है, ठेकेदारों की मनमानी लूट मची हुई है उस पर कलेक्टर से उम्मीदें हैं कि कार्यवाही करेंगे। वहीं नई सरकार आने के बाद अब मुख्यमंत्री एक्शन मूड में हैं, उनके द्वारा यदि रेत खदानों में कार्यवाही नहीं की जाएगी तो कलेक्टर भी नप सकते हैं। ऐसे में कलेक्टर साकेत मालवीय से जिले के लोगों को उम्मीदें हैं कि वह निश्चित रूप से कार्यवाही करेंगे।

रेत खदानों के ठेकेदार द्वारा दी जा रही धमकी

इस पूरे मामले को लेकर रेत ठेकेदार एनर्जी गु्रप विनय आलूवालिया पावर मेक सीधी द्वारा धमकी भी दी जा रही है। समाचार प्रकाशित होने को लेकर मीडिया को धमकी भी दी जाती है। कही न कहीं रेत ठेकेदार से जब कोई मीडिया कर्मी बयान लेना चाहते हैं तो वह जवाब देने के वजाय धमकी देना शुरू कर दिए हैं। इतना पावरफुल अधिकारी हो गए हैं कि गलत करने के बाद भी धमकी देने सहित यह भी कह रहे हैं कि हम कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक से शिकायत करेंगे। मामले में सैनिक फू्रड पहले रेत खदान का संचालन करते थे लेकिन अब नये रेत खदान के ठेकेदार आ गए हैं लेकिन अभी भी सैनिक फू्रड के ठेकेदार पुजारा कहीं कमजोर नहीं हैं। कुल मिलाकर रेत के मामले में जिस तरह अंधेरगर्दी मची है वह किसी से छिपा नहीं है।

सरकार की छवि को धूमिल करने में रेत खदान के ठेकेदार हैं माहिर

देश सहित प्रदेश एवं जिले में अब लोकसभा का चुनाव होने वाला है। ऐसे में रेत के नाम पर जिस तरह अंधेरगर्दी मची हुई है लोगों में नाराजगी भी दिख रही है। सीधी जिले में रेत खदान संचालित होने के बाद महंगे दर पर रेत का काम शुरू हो गया है। आम जनता परेशान हैं आखिर इतना महंगा रेत की बिक्री क्योंं हो रही है। सांसद रहीं एवं सीधी विधायक रीती पाठक के पास भी शिकायतें पहुंची हैं वही कलेक्टर सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारियों को भी यह बात मालुम होगी इसके बाद भी रेत की कीमतों पर नजर अंदाज किया जा रहा है। जिससे सरकार की छवि धूमिल हो रही है। ऐसे में लोकसभा चुनाव के दौरान इसका असर देखने को मिलेगा।

Desk

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह भी पढ़ें

Back to top button
E7Live TV

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker